क्या होता है साइबर इंश्योरेंस और कैसे करे इसे 

What is Cyber Insurance in Hindi आज हर हाथ में स्मार्टफोन और उसमे चलने वाले फास्ट इन्टरनेट ने लोगो को नेटवर्क से जोड़ दिया है . इससे लोगो को काफी सुविधाओ का फायदा मिला है पर इसका एक डार्क फेस भी है जिसका नाम है साइबर अटैक या साइबर क्राइम 

हैकर लोग अपनी हैकिंग स्किल्स के माध्यम से आये दिन साइबर अटैक करके लोगो के अकाउंट को हैक कर रहे है , उनकी बैंकिंग डिटेल्स निकाल कर चुना लगा रहे है . 

ऐसे में लोगो को साइबर जोखिमो  के बीच सुरक्षा देने के लिए बीमा कंपनियां भी अपने बीमा (Insurance ) लेकर आ गयी है . आप किसी भी बीमा एजेंट (Insurance Agent ) से साइबर इंश्योरेंस की जानकारी ले सकते है . 

यदि आप इस डिजिटल युग में किसी साइबर फ्रॉड के शिकार होते है जिससे आपको आर्थिक , मानसिक नुकसान उठाना पड़ता है तो उस दशा में साइबर इंश्योरेंस आपके नुकसान की भरपाई करता है . 

What is Cyber Insurance in Hindi


यदि आपने कॉम्प्रिहेंसिव साइबर इंश्योरेंस प्लान ले रखा है तो यह मानसिक आघात और उससे जुड़े चिकित्सा में लगने वाले शुल्क को भी कवर करता है . 

मोटे तौर पर साइबर इंश्योरेंस आपको इन्टरनेट से चलने वाले सभी डिवाइस में ऑनलाइन धोखाधड़ी से कवर करता है . 

साइबर इंश्योरेंस में कवर होने वाली प्रमुख चीजें

अब जानते है कि साइबर इंश्योरेंस लेकर आप किन किन चीजो को कवर कर सकते है . 

1) ईमेल स्पूफिंग फिशिंग नुकसान -  यदि आप किसी फर्जी ईमेल या फिशिंग के चलते नुकसान खाते है तो यह साइबर इंश्योरेंस उसे कवर करता है . 

2) डाटा का नुकसान - यदि कोई हैकर आपके सिस्टम में घुसकर आपके डाटा मैलवेयर सॉफ्टवेयर के द्वारा  चुरा लेता है या डिलीट कर देता है तो इस नुकसान का भी कवर मिलता है  

3) ऑनलाइन ट्रांजेक्शन - यदि आपके नेट बैंकिंग , यूपीआई आईडी , क्रेडिट कार्ड , डेबिट कार्ड  या डिजिटल पेमेंट ऐप्स में कोई 

4) सीक्रेट फाइल को चुराना - यदि आपकी कोई सीक्रेट फाइल्स और डाटा को चुराकर आपकी प्रतिष्ठा पर दाग लगाया जाता है तो उसका भी क्लेम मिलता है . 

5) ट्रांसपोर्ट खर्च - यदि तीसरा पक्ष अपना दावा कोर्ट में ठोकता है तो कोर्ट में आने जाने का परिवहन का खर्च इस साइबर इंश्योरेंस में कवर किया जाता है . 

साइबर अटैक से बचने के लिए काम ले ले ये उपाय

यदि आपने कोई साइबर इंश्योरेंस ले रखा है या लेने की सोच रहे है तो साइबर अटैक को लेकर बिलकुल फ्री ना हो जाये . आपको सबसे पहले यही कोशिश करनी है कि आपके  इन्टरनेट  से जुड़े गैजेट्स पर किसी तरह का कोई साइबर हमला ना हो . 

सिक्यूरिटी ऐप्स और सॉफ्टवेयर का प्रयोग - आप अपने स्मार्टफ़ोन और कंप्यूटर में अच्छे सिक्यूरिटी ऐप और सॉफ्टवेर को इनस्टॉल करवा कर रखे जो लेटेस्ट और अपडेटेड हो , यह सिक्यूरिटी प्रोग्राम मैलवेयर , रेंसमवेयर को पकड़ सके और आपके डिवाइस को साइबर अटैक से बचा सके . 

मजबूत पासवर्ड - साइबर अटैक से बचने के लिए आप अपने सभी ऑनलाइन अकाउंट में पासवर्ड स्ट्रोंग रखे , वीक पासवर्ड जल्दी से पता लगा लिए जाते है , इसलिए 8 से 12 अक्षरों का Alphanumeric पासवर्ड रखे जिसमे Special Symbols भी हो . 

Unknown Emails - साइबर हैकर आपकी ईमेल आईडी पर आपको फिशिंग URL  ईमेल भी भेज सकते है जिसमे वे वायरस या मैलवेयर अटैचमेंट के रूप में भेज सकते है . 

यदि आपको किसी ईमेल पर विश्वास नही हो तो उसे खोले नही , ना ही उसकी attachment को डाउनलोड करे . 

पासवर्ड शेयर ना करे - कभी भी किसी के साथ भी अपने निजी अकाउंट के पासवर्ड शेयर ना करे , इससे आपके पासवर्ड की रूप रेखा पता चल जाती है . 

साइबर इंश्योरेंस लेते समय ध्यान रखे ये बाते

Things to Know While Taking Cyber Insurance in Hindi यदि आप साइबर इंश्योरेंस खरीदने जा रहे है तो सबसे पहले यह जान ले कि आपको किस लेवल का साइबर इंश्योरेंस चाहिए . यदि आपका कोई छोटा सा आर्गेनाइजेशन है तो आप बहुत बड़े लेवल की सिक्यूरिटी लेना पैसो की बर्बादी है . यहा यह आर्टिकल आपकी मदद करेगा की आपको अपनी जरुरत के हिसाब से किस टाइप का साइबर इंश्योरेंस लेना चाहिए . 

बता दे कि साइबर बीमा आपको 10 से 15 तरह की साइबर खतरों से सुरक्षा प्रदान करता है . आप अपने बीमा कवर की लिमिट चुनते समय यह ध्यान रखे कि आपके सिस्टम के लिए कितनी साइबर सुरक्षा की जरुरत है . क्या आप का काम पूरी तरह ऑनलाइन कार्य करता है . क्या आपका नुकसान लाखो करोडो का हो सकता है . 

साथ ही अलग अलग कंपनी का अलग अलग प्रीमियम और कवर लिमिट है , इसलिए पहले उनके प्रीमियम और कवर पॉइंट को समझ ले . 

कही ऐसा ना हो कि आपका साइबर अटैक से नुकसान भी हो जाये और वो उनके कवर की लिस्ट में आता भी ना हो .

साइबर इंश्योरेंस लेने के फायदे - Advantages of Cyber Insurance 

अब चलिए जानते  है कि यदि आपने साइबर इंश्योरेंस ले रखा है तो आपको इसका क्या फायदा (Benefits ) मिलता है . 

1: जब आपके साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी की जाती है और साइबर क्रिमिनल आपके डाटा को चुराकर आपको फाइनेंसियल या मानसिक नुकसान देते है तब साइबर बीमा आपको कवर दिलाकर आपके नुकसान की भरपाई करता है .

2: यदि आप किसी फिशिंग यूआरएल या ईमेल स्पूफिंग का शिकार होते है तब भी आप अपने नुकसान की भरपाई साइबर इंश्योरेंस से कर सकते है .

3: कॉम्प्रिहेंसिव साइबर इंश्योरेंस लेने पर यदि आपको मानसिक तनाव और आघात लगता है तो आपके चिकित्सा का खर्च भी बीमा कंपनी उठाती है . 

भारत में साइबर इंश्योरेंस की कंपनियां  

भारत में अभी दो मुख्य साइबर इंश्योरेंस प्लान चल रहे है . 

पहला - बजाज आलियांज की इंडिविजुअल साइबर सेफ इंश्योरेंस

दूसरा - एचडीएफसी एर्गो की साइबर सिक्योरिटी 

नोट - इनके विस्तार प्लान और कवर के लिए आप इनकी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर सुचना ले सकते है . 

अब जाने कैसे पॉलिसी काम करती है 

मान लीजिये आपने 5 लाख रुपए वाला प्लान ले रखा है जिसमे आपको सालाना लगभग 1800 रुपए प्रीमियम देना पड़ता है साइबर इंश्योरेंस  के रूप में . 

अब यह फ्रॉड के ऊपर दायित्व की सीमा निर्भर करेगी . अभी ईमेल स्पूफिंग की सीमा 15 % और फिशिंग की 25% है यानी कि फिशिंग के केस में आपको 1.25 लाख और ईमेल स्पूफिंग के केस में 75000 रुपए क्लेम में तौर पर मिल सकते है . 

Disclaimer - यह जानकारी शिक्षा के उद्देश्य से है , आप विस्तार से जानकारी अपनी बीमा कंपनी और उनके  साइबर इंश्योरेंस  से जान सकते है . हम किसी भी जानकारी की पूरी सत्यता का दावा नही करते है . 

Conclusion 

तो दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से आपने जाना कि साइबर इंश्योरेंस किसे कहते है , साइबर इंश्योरेंस लेने के क्या फायदे होते है . साइबर इंश्योरेंस किन किन चीजो को कवर करता है . साथ ही हमने आपको बताया कि Cyber Insurance लेते समय आपको किन किन बातो का ध्यान रखना चाहिए . 

दोस्तों बीमा हमेशा जो अकस्मात् होने वाले नुकसान को काफी हद तक भरने में सहायक होता है . इसलिए जब डिजिटल युग में हम प्रवेश कर गये है तो हमें अपने हिसाब से कोई Cyber Insurance जरुर ले लेना चाहिए . 

आशा करता हूँ इससे  जुड़े इस आर्टिकल  के द्वारा आपको सभी जरुरी जानकारी मिल गयी होगी . 

 यदि फिर भी आपके कोई सवाल है तो आप कमेंट में हमसे पूछ सकते है . मेरी कोशिश रहेगी कि आपको उनके जवाब दे सकू. 

और ऐसी ही बहुत सारी ज्ञानवर्धक पोस्ट के लिए आप TechGyan Website के Sitemap पेज को देख सकते है . 

आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे Social Media Network पर जरुर शेयर कीजियेगा . 

आपका प्यार हमारी इस टेक वेबसाइट को बहुत मिल रहा है इसलिए आप सभी का दिल से शुक्रिया . 

साइबर अपराध (Cyber Crime ) क्या है और इनसे बचने के जाने ये उपाय 

गूगल पर ये चीजे सर्च करना पड़ सकता है भारी - Don't Search these things on Google 

मैलवेयर क्या होता है और यह हमें कैसे नुकसान पहुँचाता है ? What is Malware in Hindi 

Phishing URL क्या होता है और कैसे आप इसे ठगी का शिकार बन सकते है 

ईमेल स्पूफिंग क्या है ? ईमेल स्पूफिंग से कैसे बचे ? 

Post a Comment

Previous Post Next Post